Wednesday, 21 June 2017

कविता


   

                                                   'ठेकेदार'
                       
                                                                       -फरज़ाना सैफी 'बड़बोली'
     


न जाने कैसी रंजिशे हैं
इन आँखों में?
कुछ तो वजह हो मुकम्मल
जिस पर किसी हद तक
सोचा जाए
कौन हैं वह चार लोग
जिन्हें ठेकेदार बनाया गया है हमारा
जो घूमते हैं हमारे इर्द-गिर्द
और घूरते हैं बड़ी-बड़ी आँखों से
क्यों उनकी झूठी रीतियों को माना जाए
क्यों उन्हें सर्वोपरि माना जाये
क्या सचमुच उन लोगों में है इतनी कुव्वत
कि वो जीत जाएं हम पर?
लेकिन उन चार खम्बों का सहायक
हम खुद भी हैं
चलिए अब पहल की जाए
और यह दीवार कमज़ोर बनाई जाए
फिर देखते हैं कौन किस पर भारी
हम भारी या तुम भारी?


No comments:

Post a Comment

●भीष्म साहनी- मानवीय संवेदना के सशक्त साहित्यकार●

आज है 8 अगस्त यानी बहु आयामी व्यक्तित्व से सराबोर,ज़िंदादिल, खुशमिज़ाज़ बहुमुखी प्रतिभा से ओत-प्रोत तथा मानवीय पहलुओं से सरोकार रखने वाले ...